Wednesday, July 16, 2008

जीवन तेरे रूप अनेक

जीवन भी कितना विचित्र है.... कभी सुकून देता है, कभी तकलीफ। अपने सहोदर से लिपटे इस नन्हे के लिए जीवन क्या होगा?